‘जन-गण-मन’ राष्ट्रीय गान के रचयिता कौन हैं?



जब भी हम सभी भारत के राष्ट्र गान को सुनते हैं तो हमारे अंदर एक अलग ही भावना जग उठती है. हम सभी ने स्कूल के समय ‘जन-गण-मन’ खूब सुना और यह देश की शान है इसी बारे में हमें बताया गया है. मगर क्या आप जानते हैं कि हमारा राष्ट्र गान ‘जन-गण-मन’ किसने लिखा है? यहां हम आपको National Anthem in hindi के बारे में बताएंगे और साथ ही बताएंगे कि जन-गण-मन से जुड़ी सारी बातें बताएंगे.

राष्ट्र गान ‘जन-गण-मन’ के रचयिता कौन हैं? | National Anthem in hindi

राष्ट्र गान रवींद्रनाथ टैगोर ने लिखा.

राष्ट्र गान को सबसे पहले 7 दिसंबर, 1911 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के किस अधिवेशन में गाया गया था?
पहली बार कलकत्ता अधिवेशन में गाया गया था.

राष्ट्र गान का प्रकाशन सर्वप्रथम साल 1912 में किस पत्रिका में ‘भारत विधाता’ शीर्षक में हुआ था?
तत्व बोधिनी से भारत विधाता शीर्षक लिया गया था.

राष्ट्र गान कितने समय में पूरा होता है?
हमारा राष्ट्र गान गाने में 52 सेकेंड लगते हैं.



क्या है राष्ट्र गान?

जन-गण-मन अधिनायक जय हे, भारत भाग्य विधाता.
पंजाब-सिंधू-गुजरात-मराठा, द्राविड़ उत्कल बंग…
विन्ध्य-हिमाचल यमुना-गंगा, उच्छल जलधि तरंग..
तव शुभ नामे जागे, तव शुभ आशीष मांगे..
गाये तव जय गाथा, जन-गण-मंगलदायक जय हे, भारत भाग्य विधाता.
जय, जय हे, जय हे, जय-जय-जय-जय हे।।

यह भी पढ़ें- कौन हैं Bill Gates की पत्नी? शादी के पहले थे कई Boyfriend

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *