पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘बूस्टर डोज’ के लिए किया ऐलान, जानें क्या है ये?



भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 दिसंबर के दिन भारत के लोगों को ‘Christmas Day’ की बधाई दी. देश को संबोधन करते समय पीएम मोदी (PM Modi) ने वैक्सीन को लेकर दो बड़े ऐलान किये हैं. इसमें पहला ये है कि 15 से 18 साल के बच्चों 3 जनवरी 2022 से वैक्सीन लगना शुरू हो जाएगी और दूसरा ये है कि 60+ और स्वास्थ्य हेल्थकेयर वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर के लिए वैक्सीन की ‘Precaution Dose’ भी शुरू की जाएगी. इसे एक तरह से बूस्टर डोज भी कहा जा रहा है. मगर लोगों के मन में ये सवाल हो सकता है कि आखिर ये Booster Dose kya hai तो आज हम आपको इसी के बारे में बताएंगे.



क्या है बूस्टर डोज? | Booster Dose kya hai

बूस्टर डोज को अगर आसान शब्दों में समझाया जाए तो वो ये है कि अगर किसी ने दोनों वैक्सीन लगवा ली है तो उस कोर्स को पूरा करने के लिए बूस्टर डोज लगवाना पड़ेगा. शरीर में बनी एंटीबॉडी को और ज्यादा बढ़ाने के लिए बूस्टर डोज दी जाएगी. फिलहाल इसकी अनुमति नहीं है लेकिन 10 जनवरी से इसे वर्कफ्रंटलाइन वालों और 60+ वालों को लगाई जाएगी. इसके बाद और लोगों का One by One नंबर आएगा. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज दी जा रही है तो उसे प्राइम डोज कहते हैं लेकिन इसके एक निश्चित समय के बाद जो डोज लगाई जाएगी उसे Booster Dose कहेंगे.

सरकार ने निर्णय लिया है कि हेल्थकेयर वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर के लिए वैक्सीन की ‘Precaution Dose’ भी प्रारंभ की जाएगी। इसकी शुरुआत 10 जनवरी 2022 सोमवार से की जाएगी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (सोर्स: डीडी न्यूज़) pic.twitter.com/vPYfANoYiD

— ANI_HindiNews (@AHindinews) December 25, 2021

Booster Dose kya hai ये तो आपको क्लियर हो गया होगा लेकिन जब से शुरू हो उसे आपको लगवाना होगा हालांकि इसके लिए अभी समय है. फिलहाल अपने संबोधन में पीएम मोदी ने ये भी कहा है कि कोरोना के नये वेरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) से घबराने की जरूरत नहीं है बस अपना ख्याल रखें और सभी गाइडलाइंस को मानें. हाथों को धोकर ही कुछ खाएं और सैनेटाइजर का इस्तेमाल करते रहें.



Rating