सफलता की ओर ले जाती हैं APJ Abdul Kalam की 10 प्रेरणादायक बातें

देश में बहुत से ऐसे महापुरुष हुए जिन्हें लोग याद करते हैं और उनके द्वारा बताई गई बातों को फॉलो करते हैं। उन्हीं में एक APJ Abdul Kalam भी हैं जिन्होने नवयुवकों को उनके लक्ष्य पर जाने के लिए कई राह बनाईं और उन्हें फॉलो करने वाले सफल ही हुए। 27 जुलाई, 2015 का वो काला दिन जब भारत माता ने अपने होनहार बेटे को खोया और उनके निधन पर सिर्फ भारत के लोगों की आंखें नहीं नम हुईं बल्कि दुनिया के कई देश गमगीन हुए।



Dr Abdul Kalam की कही बातों को आपको भी अपने जीवन पर उतारना चाहिए इसलिए आज हम आपके लिए Quotes of APJ Abdul Kalam लाए हैं।

APJ Abdul Kalam की 10 प्रेरणादायक बातें

15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में एक मुस्लिम परिवार में जन्में एपीजे अब्दुल कलाम का पूरा नाम अवुल पाकिर जैनुलाबद्दीन अब्दुल कलाम था। इनके पिता एक नाविक थे और पास के मस्जिद में इमाम थे। कलाम साहब अपने चार भाई और एक बहनों में चौथे नंबर पर थे, आर्थिक स्थिति ठीक ना हो ने के कारण आठ साल की उम्र से ही कमाकर पढ़ाई करने वाले कलाम के सपने बहुत बड़े थे। आठ साल की उम्र में सुबह 4 बजे उठकर कलाम साहब गणित की पढ़ाई करने जाते थे उसके बाद नमाज पढ़कर रामेश्वरम के रेलवे स्टेशन और बस अड्डे पर न्यूज पेपर बांटने चले जाते थे। उनका सपना एयरोस्पेस टेक्नोलॉजी में अपना करियर बनाने का था जिसे उन्होंने पूरा किया। साल 2007 में उन्होंने भारत के राष्ट्रपति के तौर पर कार्यभार संभाला और 27 जुलाई, 2015 को उनका निधन हार्ट अटैक के कारण हुआ।

1. अपना सपना सच हो, इसे पहले आपको सपना देखना होगा।

2. श्रेष्ठता एक सतत प्रक्रिया है, कोई हादसा नहीं।

3. जीवन एक मुश्किल खेल है, आप इंसान होने के अपने जन्मजात अधिकार को बरकरार रखते हुए ही इसे जीत सकते हैं।

4. इंसान को मुश्किलों की जरूरत पड़ती है क्योंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए ये मुश्किल बहुत जरूरी हैं।

APJ Abdul Kalam
APJ Abdul Kalam

5. हमें तभी याद रखा जाएगा जब हम अपनी युवा पीढ़ी को एक समृद्ध और सुरक्षित भारत दे पाएं। इस समृद्धि का स्रोत आर्थिक समृद्धि और सभ्य विरासत होगी।

6. जो लोग मन से काम नहीं कर सकते, उन्हें जो सफलता मिलती है जो खोखली और आधी-अधूरी होती है जिससे आसपास कड़वाहट फैलती है।

7. शिक्षाविदों को छात्रों के लिए बीच समानता, रचनात्मकता, उद्यमिता और नैतिक नेतृत्व की भावना विकसित करनी चाहिए और वे छात्रों का आर्दश बनें.

8. आसमान की तरफ देखिए. हम अकेले नहीं हैं. पूरा ब्रह्मांड हमारा दोस्त है और वो उन्हीं को सबसे सर्वोत्तम देता है जो सपने देखते हैं, मेहनत करते हैं.



9. अगर किसी देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनना है, सुंदर मस्तिष्कों वाला देश बनना है तो मेरी साफ़ राय है कि समाज के तीन सदस्यों की इसमें बहुत अहम भूमिका है. ये तीन लोग हैं पिता, मां और अध्यापक।

10. मेरा संदेश, ख़ासकर युवा लोगों के लिए ये है कि वो अलग तरीक़े से सोचने का साहस दिखाएं, आविष्कार करने का साहस दिखाएं, अंजाने रास्तों का सफ़र करें, असंभव लगने वाली चीजों को खोजें और समस्याओं पर विजय पाते हुए सफलता हासिल करें। ये वो महान गुण हैं जिन्हें हासिल करने की दिशा में उन्हें काम करना है. युवाओं के लिए यही मेरा संदेश है।

यह भी पढ़ें-  जिंदगी को सफल बनाने वाले स्वामी विवेकानंद के 25 अनमोल विचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *