भारत के सुंदर पिचाई कैसे बने Google के सबसे CEO? जानिए इनका रोचक सफर

Sundar Pichai Biography in Hindi | भारत में बहुत से ऐसे नौजवान रहे हैं जिन्होंने अपने देश का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया है। उन्हीं लोगों में एक नाम है सुंदर पिचाई, जो Google CEO हैं और अपने काम से हर किसी को प्राउड फील कराते हैं। Sundar Pichai एक सॉफ्टवेयर इंजिनियर हैं, जो इस समय गूगल इंक कंपनी के चीफ एक्जिक्टिव ऑफिसर के पद पर काम करते हैं। भारत में जन्में सुंदर पिचाई को गूगल में काम करते15 साल से ज्यादा हो गए हैं।



इन सालों में सुंदर पिचाई ने Google को कई गुना आगे बढ़ाया है और इस कंपनी में उनका भी बड़ा योगदान रहा है। सुंदर पिचाई अब गूगल के साथ अल्फाबेट के भी सीईओ हैं और इसकी स्थापना साल 2015 में हुई। Alphabet कई अलग-अलग कंपनियों का समूह है। उनके जन्मदिन के मौके पर हम आपको उनके जीवन से जुड़ी हर छोटी-बड़ी बात (Sundar Pichai Biography in Hindi) बताने जा रहे हैं, उम्मीद है आपको ये पसंद आएगी।

सुंदर पिचाई का प्रारंभिक जीवन |  Sundar Pichai Biography in Hindi

Sundar Pichai Biography in Hindi
अपने माता-पिता के साथ सुंदर पिचाई

10 जून, 1972 को तमिलनाडु के मदुरै शहर में जन्में सुंदर में ही इऩकी शुरुआती पढ़ाई हुई। इनके पिता विद्युत इंजीनियर थे और इनकी मां बतौर स्टेनोग्राफर के तौर पर सरकारी नौकरी करती थीं। इनकी 10वीं तक की पढ़ाई जवाहर विद्यालय से हुई और फिर 12वीं इन्होने वाना वानी स्कूल से की। इन्होंने मेटलर्जिकल इंजीनियर विषय में डिग्री भाकतीय प्रोद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर से पूरी की। इस डिग्री के साथ सुंदर अमेरिका चले गए और यहां पर स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले लिया। यहां से भौतिक विज्ञान और इंजीनियरिंग में मास्टर्स भी किया। इसके अलावा व्हार्टन स्कूल ऑफ पेंसिल्वेनिया से एमबीए की पढ़ाई की। शुरुआती समय में सुंदर का मन पढ़ाई में ज्यादा नहीं लगता था इनका मन क्रिकेट में रहता था और वे स्कूल में क्रिकेट टीम के कप्तान भी रहे हैं। पढ़ाई पूरी करने क बाद सुंदर पिचाई ने एप्लाइड मैटेरियल्स में इंजीनियरिंग और प्रोडक्ट मैनेजर के तौर पर काम किया।



इसके बाद उन्होंने मैकिंसे एंड कंपनी में मैनेजमेंट कंसल्टिंग पद पर काम किया। साल 2004 में सुंदर पिचाई ने गूगल ज्वाइन किया जहां वे उत्पाद प्रबंधन, नई खोजों और नए विचारों से संबंधित कामों की जिम्मेदारी ली। इसमें इन्होंने गूगल क्रोम, क्रोम ओ.एस और गूगल ड्राइव जैसे प्रोजेक्ट पर काम किया और फिर इसके साथ ही गूगल मैप्स और जी मेल जैसे महत्वपूर्ण एप्लीकेशन डेवलपमेंट में काम किया। 19 नवंबर, 2009 में सुंदर पिचाई क्रोम ओ.एस. का प्रदर्शन किया और इसके बाद क्रोमबुरक को साल 2011 में जांच के लिए भेजा गया और फिर साल 2012 में इसे यूजर्स के लिए लॉन्च किया गया। मई, 2010 में पिचाई ने गूगल के नए वीडियो कोडेक VP8 के ओपन सोर्सिंग का एलान किया गया और गूगल के इस वीडियो को कोडेक ने एक नया वीडियो फॉर्मेट WebM प्रस्तुत किया।

Sundar Pichai Biography in Hindi
अपने दोस्तों के साथ सुंदर पिचाई

मार्च, 2013 में एंड्रएड भी सुंदर पिचाई के अंतर्गत आने वाले प्रोडक्ट्स को शामिल किया गया। इससे पहले एंड्राएड का काम और विकास एंडी रुबिन के प्रबंधन में हो रहा था और साल 2014 में माइक्रोसॉफ्ट के अगले सी.ई.ओ. के तौर पर सुंदर पिचाई खबरों में रहे। 10 अगस्त, 2015 को सुंदरपिचाई ने सोशल मीडिया पर गूगल का अगला सी.ई.ओ. बनाने के लिए जानकारी दी थी। 24 अक्टूबर, 2014 को गूगल के को-फाउंडर लैरी पेज ने पिचाई को Product Head बनाने की घोषणा की थी। सुंदर पिचाई अपने नये पद को अल्फाबेट इंक के स्थापना के बाद संभालेंगे। अल्फाबेट इंक अब गूगल के सभी प्रोडक्ट्स और कंपनियों को होल्डिंग कंपनी होगी जिसके सी.ई.ओ. लैरी पेज होंगे। Sundar Pichai salary के मामले में बहुत आगे जा चुके हैं और वे उनकी सालाना (Sundar Pichai net worth) इनकम 2,25,961 डॉलर यानी करीब 1.60 करोड़ रुपये है।

सुंदर पिचाई का निजी जीवन | Sundar Pichai Personal Life

Sundar Pichai Biography in Hindi
अपनी पत्नी के साथ सुंदर पिचाई

सुंदर पिचाई ने आई.आई.टी. खड़गपुर में पढ़ने के दौरान अंजलि से दोस्ती की थी। इनके साथ दोस्ती गहरी हुई और पढ़ाई पूरी होने पर दोनों ने शादी कर ली। इन्हें दो बच्चे काव्या बेटी और किरन बेटा है। सुंदर पिचाई को बॉलीवुड फिल्में देखना पसंद है और वे फिल्म इंडस्ट्री में हुई सेलिब्रिटीज की शादियों में अपनी पत्नी और बच्चों के साथ पहुंच जाते हैं। सुंदर पिचाई को अपने भारत पर गर्व है और जब नरेंद्र मोदी अमेरिका जाते हैं तो सुंदर पिचाई उनसे जरूर मिलते हैं, इसे कहते हैं धरती से जुड़ा बंदा। सुंदर पिचाई ने न्यूयॉर्क में में 6.8 मिलयन डॉलर में घर खरीदा (Sundar Pichai house) था और अब अमेरिका के नागरिक हैं और न्यूयॉर्क में Sundar Pichai wife और बच्चों के साथ वहीं रहते हैं।



सुंदर पिचाई से जुड़ी कुछ अन्य बातें | Lesser Facts about Sundar Pichai

Sundar Pichai Biography in Hindi
सुंदर पिचाई

1. 47 साल के सुंदर पिचाई का असली नाम पिचाई सुंदराजन है। सुंदर की बचपन में टेक्नोलॉजी नहीं बल्कि क्रिकेट में रुचि थी।

2. सुंदर पिचाई की याद्दाश्त के बारे में बताया जाता है कि उन्हें नंबर्स बहुत जल्दी याद होते हैं। एक रिपोर्ट की मुताबिक इनके घर साल 1984 में लैंडलाइन लगा था और जब कोई इनका नंबर भूल जाता था तो वे सुंदर की याद्दाश्त का सहारा लेते थे।

3. सुंदर पिचाई की याद्दाश्त के कारण ही उन्हें माइक्रोसॉफ्ट से डबल सैलरी की जॉब ऑफर हुई थी। मगर सुंदर ने उनका शुक्रिया अदा करके इस ऑफर को मना कर दिया था।

4. IIT खड़गपुर में स्टूडेंट के दौरान सुंदर पिचाई की जमकर रैगिंग हो गई थी। रैगर्स इन्हें सुंदी कहकर पुकारते थे क्योंकि सुंदर एक बार में उनकी बात मानकर उनके लिए कुछ भी कर देते थे।

5. सुंदर पिचाई पढ़ाई के दौरान चेन्नई के दौरान दो कमरों के घर में रहते थे और इंजीनियरिंग करने के बाद इन्हं स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की स्कॉलरशिप भी मिली थी। तब उनके घर की हालत इतनी खराब थी कि इनके पिता ने कर्ज लेकर सुंदर की एयर टिकट करवाई थी।

6. सुंदर पिचाई जब अमेरिका में पढ़ रहे थे तब उनकी शादी हो चुकी थी और उनकी वाइफ अंजलि भारत में ही थीं। सुंदर के पास तब इतने पैसे नहीं होते थे कि वे अपनी पत्नी से बात कर पाएं। ऐसे में उन्हें 6 महीने भी हो जाते थे उनसे बात किए।

7. Twitter ने साल 2011 में सुंदर को जॉब ऑफर किया था और वो तैयार भी हो गए थे लेकिन गूगल ने नौकरी ना छोड़ने के 305 करोड़ रुपये दिए थे क्योंकि गूगल जानता था कि सुंदर में दम है।

sundar pichai
गूगल की टीम और पीएम के साथ सुंदर पिचाई

8. जिस कॉलेज में सुंदर ने पढ़ाई की थी उस कॉलेज के बच्चों के लिए सुंदर पिचाई एक प्रेरणा हैं। आज भी Skype के जरिए यहां के छात्रों से बात करते हैं और उन्हें टिप्स देते रहते हैं।

9. 9. सुंदर पिचाई गूगल के उन लोगों में शामिल हैं जिन्हें उभरते बाजार में गूगल को आगे ले जाने के लिए पहचाना जाता है। उन्हें Google Founder Larry Page से भी बेहतर डेवलपर माना जाता है।

10. अमेरिकी मीडिया पिचाई को लैरी पेज का राइट हैंड मानती है। लैरी पेज जब भी किसी मीटिंग मं जाते हैं तो पिचाई भी साथ जाते हैं और बहुत कम बोलना पसंद करते हैं। जबकि उनके बॉस चाहते हैं कि सुंदर बोले लेकिन वे उतना बोलते हैं जितनी की जरूरत होती है।



11.पिचाई में टीम को मैनेज करने की खास कला है। उन्होंने हमेशा अपनी टीम के काम की सराहना की है और हर हाल में टीम के साथ खड़े रहते हैं। एक बार की बात है जब मैरिसा मेयर गूगल की एक्जीक्यूटिव थीं, पिचाई घंटों उनके ऑफिस में बैठकर उनका वेट करते रहे। ये देखने के लिए कि मैरिसा उनकी टीम मेंबर्स को अच्छे से ट्रीट करती हैं या नहीं।

12. गूगल क्रोम जिसे पूरी दुनिया चलाती है उसे सुंदर पिचाई ने अपने हाथों से बनाया है। इसके पीछे उनकी दिन-रात की मेहनत है और इसे लॉन्च करने के समय उन्होंने इससे जुड़ी मेहनत के बारे में बताया।

यह भी पढ़ें- जीवन परिचय: टेनिस प्लेयर से किरण बेदी कैसे बनी भारत की पहली महिला IPS?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *