सिर्फ ‘रामभक्त’ ही जानते होंगे रामायण से जुड़ी ये 10 अहम बातें

कोरोना काल में लॉकडाउन के घर-घर में रामायण धारावाहिक देखा गया और इसकी टीआरपी इतनी हाई हुई कि दूसरे चैनल्स ने भी इसे अपने चैनल पर दिखाने का निर्णय लिया। ‘Ramayana’ हिंदू धर्म का एक पवित्र ग्रंथ है जिसमें हिंदू धर्म को मानने वालों की श्रद्धा जुड़ी है और इससे जुड़ी हर बात उन्हें याद रहती है लेकिन क्या आपको रामायण के बारे में कुछ बातें गहराई से पता है?



रामायण से जुड़ी अनसुनी बातें | Facts about Ramayana

रामायण
रामायण सीरीयल

भगवान श्रीराम के जीवन पर आधारित रामायण को हिंदू धर्म को मानने वालों में ज्यादातर लोगों ने पढ़ा और सुना होगा। रामायण से हमारे जीवन को नई दिशा मिलती है। रामायण के सभी किरदारों और उसमें घटे प्रसंगों से कुछ ना कुछ सीख मिलती है। मगर रामायण के ऐसे कई रोचक प्रसंग भी हैं जिनके बारे में शायद ही आपको पता हो..

1. श्रीराम की माता कौशल्या को भगवान विष्णु ने उनके पूर्व जन्म में ही त्रेता युग में उनके गर्भ से जन्म लेने का वरदान दिया था।
2. ऐसी मान्यता है कि भगवान श्रीराम के चार भाईयों के अलावा एक बहन भी थी जिसका नाम शांता था। माता कौशल्या ने अपनी बेटी को बहन को गोद दे दिया था।
3. राजा दशरथ नहीं चाहते थे कि उनके ज्येष्ठ और अतिप्रिय पुत्र वनवास जाएं, इसलिए उन्होने श्रीराम को सुझाव दिया था कि तुम मुझे बंदी बनाकर राजगद्दी पर बैठ जाओ लेकिन श्रीराम ने ऐसा करने से मना कर दिया।
4. आनंद रामायण के अनुसार ब्रह्मा जी ने रावण को पहले ही बताया था कि राजा दशरथ और कौशल्या का पुत्र उसकी मौत का कारण बनेगा। इसलिए रावण ने माता कौशल्या का भी अपहरण किया था लेकिन उन्हें समुद्र से घिरे एक द्वीप पर छोड़ दिया था।
5. शास्त्रों के अनुसार एक बार रावण भगवान शिव के दर्शन करने के लिए कैलाश पर्वत गया तो वहां जब नंदी को रावण ने देखा तो उनका उपहास उड़ाने लगा। रावण ने कहा कि तुम्हारी मुंह बंदर जैसा है इससे क्रोधित होकर नंदी ने रावण को श्राप दे दिया कि तुम्हारी मृत्यु एक बंदर के कारण ही होगी।



6. अपने विजय अभियान के दौरान रावण जब स्वर्ग पहुंचा तो अप्सरा रम्भा पर मोहित हो गया। रावण ने जब रम्भा की इच्छा के विरुद्ध उसे छूने की कोशिश की तब नलकुबेर ने रावण को श्राप दे दिया कि अब तूने किसी स्त्री को छुआ तो तेरे सर के सौ टुकड़े हो जाएंगे।
7. विजय युद्ध के दौरान रावण ने अयोध्या के राजा अनरन्य को हराया था। तब राजा ने मरने से पहले रावण को श्राप दिया था कि तेरी मृत्यु मेरे कुल द्वारा ही होगी।
8. एक बार वेदवती नाम की स्त्री भगवान विष्णु को पति के रूप में पाने के लिए तपस्या कर रही थी। इस दौरान पुष्पक विमान से रावण रावण कहीं जा रहा था और उसकी नजर वेदवती पर पड़ी जिसपर वो मोहित हो गया। रावण ने उसकी इच्छा के बिना उसे साथ ले जाने की इच्छा जताई तो वेदवती ने रावण के सामने प्राण त्याग दिए और इससे पहले श्राप दिया कि रावण की मृत्यु किसी स्त्री के कारण ही होगी।
9. माता सीता का अपहरण करने के बाद ब्रह्मा जी ने इंद्रदेव के हाथों एक दिव्य खीर माता को भेजी थी। जिससे माता बिना कुछ खाये पिए कई दिनों तक अशोक वाटिका में रह सकें।
10. एक बार रावण और यमराज के बीच युद्ध छिड़ा तो यमराज कालदंड से प्रहार करके रावण का अंत करना चाह रहे थे लेकिन ब्रह्मा जी ने यमराज को रोक दिया। ऐसा इसलिए क्योंकि रावण को वरदान मिला था कि रावण को देवता नहीं मारेंगे बल्कि श्रीराम मारेंगे।



यह भी पढ़ें- हनुमान जी के 5 चमत्कारिक मंदिर जो उनके आज भी होने के देते हैं सबूत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *