क्या है ‘Cycle Girl’ ज्योति पासवान के साथ दुष्कर्म और हत्या की तस्वीर का सच?

लॉकडाउन के दौरान जब प्रवासी मजदूर अपने-अपने घर जा रहे थे तभी एक खबर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई। इस खबर में हाईलाइट थी Cycle Girl जिसका नाम ज्योति पासवान है और इसने गुरुग्राम से दरभंगा (बिहार) तक का सफर साइकिल से तय किया। इसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने इस 15 साल की बच्ची को खूब सराहा और इसकी मदद के लिए अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav), राबड़ी देवी (Rabdi Devi) सहित कई लोगों ने हाथ बढ़ाया।



मगर कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर ही एक खबर वायरल हो रही जिसमें ज्योति के लिए इंसाफ मांगा जा रहा। खबरों के मुताबिक, ज्योति के साथ दुष्कर्म और उसकी हत्या का मामला सामने आया है लेकिन इसके पीछे का सच कुछ और ही है।

क्या है Cycle Girl ज्योति पासवान की वायरल तस्वीर का सच?

Cycle Girl ज्योति पासवान
Cycle Girl ज्योति पासवान

करीब 12,00 किलोमीटर की दूरी तय करते हुए हरियाणा के गुरुग्राम से बिहार के दरभंगा पहुंची Cycle Girl ज्योति पासवान की हिम्मत की चर्चा ना सिर्फ भारत में हुई बल्कि अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप (Donald Trump) की बेटी इवांका ट्रंप (Ivanka Trump) ने ट्वीट करके की थी। ज्योति पासवान को दिल्ली के साइकिल एकेडमी में ट्रेनिंग के लिए भी आमंत्रण भेजा गया। इसके साथ ही ज्योति पर फिल्म बनाने की पेशकश भी सामने आई लेकिन अब जो सोशल मीडिया पर खबर उड़ रही है उससे सभी हैरान हैं। ज्योति पासवान के साथ अर्जुन मिश्रा ने दुष्कर्म किया और उसकी हत्या करके फेंक दिया, इस खबर ने फेसबुक (Facebook), ट्विटर (Twitter) पर खूब तूल बांधा है। ये है वो ट्वीट-

 

मगर जब इसके बारे में पड़ताल की गई तो ये खबर झूठी निकली। सोशल मीडिया पर तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि ज्योति एक पड़ोस के बाग में आम चुनने गई और उस बच्ची की गला रेतकर हत्या कर दी गई। लोगों ने इस खबर को जमकर शेयर किया और कमेंट में #Justiceforyoti लिखकर इंसाफ मांग रहे हैं।

जब की गई इस खबर की पड़ताल

प्रतिष्ठित अखबार और न्यूज वेबसाइट अमर उजाला ने जब इस खबर का सच जानने के लिए पड़ताल की तब सच्चाई कुछ और ही निकली। जिस लड़की के शव वाली तस्वीर वायरल हुई वो बिहार के दरभंगा की तो है लेकिन वो Cycle Girl ज्योति पासवान नहीं है। तस्वीर में सामने आई लड़की का नाम ज्योति कुमारी है और दरभंगा के एसएसपी बाबू राम ने मीडिया को बताया कि इस लड़की की मौत दुष्कर्म के बाद हत्या से नहीं बल्कि करंट लगने के बाद दम घुटने से हुई। पुलिस ने बलात्कार के किसी मामले से इंकार किया, उन्होंने बताया कि ज्योति कुमारी का शव अर्जुन मिश्रा के बगीचे से मिला है और वो एक पूर्व सैनिक हैं। अर्जुन ने पुलिस को बयान दिया जिसमें उन्होंने बताया कि जंगली सुअरों के आतंक के कारण उन्होंने बगीचे में नंगे तार का घेरा लगवाया था जिसमें करंट दौड़ता है। एसएसपी के मुताबिक, इस पूरे मामले अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ प्राथमिकता के साथ कार्यवाही की जाएगी।



निष्कर्ष | Conclusion

Cycle Girl ज्योति पासवान
अपने पिता के साथ ज्योति पासवान

13 साल की बच्ची ज्योति पासवान और उस बच्ची ज्योति कुमारी का नाम एक जैसा होने के कारण ही ये दुविधा खड़ी हुई। जिस व्यक्ति ने इस खबर को वायरल किया उसपर कार्यवाही होगी लेकिन सवाल ये है कि अगर किसी लड़की का शव कहीं मिलता है तो लोगों की मानसिकता ये क्यों होती है कि उसका दुष्कर्म हुआ होगा? किसी भी खबर को शेयर करने से पहले आपको उसकी पड़ताल जरूर कर लेनी चाहिए, इससे लोगों के मन में नकारात्मकता फैलाने वाली छवि पैदा नहीं होगी। हम सभी की ये जिम्मेदारी है कि देश में होने वाली किसी भी घटना को फैलाने से पहले उसकी जांच जरूरी है वरना अफवाहों से बेवजह की बातें पैदा होती हैं।

यह भी पढ़ें- CBI जांच के लिए SC जाएंगे Sushant Singh Rajput के पिता, बेटे के लिए लगाई गुहार

Leave a Reply

Your email address will not be published.