‘प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत’ अभियान योजना की पूरी जानकारी

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने 12 मई के संबोधन में कई महत्वपूर्ण जानकारी दी। इसमें उन्होंने कोरोनावायरस की लंबी लड़ाई का संकेत दिया और साथ ही एक आर्थिक पैकेज का भी ऐलान किया है। इस आर्थिक पैकेज में पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर भारत (Atma Nirbhar Bharat) के बारे में जिक्र किया और उन्होंने बताया कि इसी के तहत अब भारत कोरोना के खिलाफ लड़ेगा और आगे बढ़ेगा। मगर बहुत से लोगों के मन में एक सवाल आया कि आखिर ये आत्मनिर्भर पैकेज है क्या और इससे आम जनता को क्या-क्या फायदा हो सकता है? इसके बारे में हम आपको विस्तारपूर्वक बताने जा रहे हैं।



क्या है प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर अभियान?

इस योजना में भारत के उन करोड़ों को आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प है जिससे उन्हें कभी किसी के सामने झुकना नहीं पड़े। इस योजना का उद्देश्य 130 करोड़ भारतवासियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए पीएम मोदी ने इस योजना की शुरुआत की है। देश का हर नागरिक संकट की इस घड़ी में कदम से कदम मिलाकर चले और कोविड-19 जैसी महामारी को हराने में अपना योगदान जनता द्वारा आ सके। देशवासियों के लिए पीएम मोदी ने जिस आर्थिक पैकेज का ऐलान किया है उससे उन्हें उम्मीद है कि सभी सेक्टरों की दक्षता बढ़ेगी और इसकी गुणवत्ता भी निश्चित होगी। इस योजना के जरिए देश की अर्थव्यवस्था को 20 लाख करोड़ रुपये का संबल दिया गया है। आत्मनिर्भर भारत अभियान राहत पैकेज की महत्वपूर्ण जानकारी नीचे लिखी है…

● योजना का नाम- आत्मनिर्भर भारत अभियान
● आरंभ की गई- प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी
● योजना के प्रकार- केंद्र सरकार
● लाभार्थी- देश का प्रत्येक नागरिक
● उद्देश्य- समृद्ध और संपन्न भारत निर्माण
● आरंभ तिथि- 12 मई, 2020
● पैकेज की धनराशि- 20 लाख करोड़ रुपये
● ऑफिशियल वेबसाइट- https://www.pmindia.gov.in/en/

पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर योजना पर क्या कहा?

Atma Nirbhar Bharat
Atma Nirbhar Bharat

भारत निरंतर ही बड़ी से बड़ी जानलेवा बीमारियों से लड़ता आ रहा है। इसमें हालिया पोलियो और कुपोषण जैसी बीमारियों का नाम आ चुका है। पहले की ही तरह अब कोरोनावायरस नाम की महामारी आ गई है जिससे पूरी दुनिया अपने-अपने सामर्थ के हिसाब से लड़ रही है। भारत में इससे लड़ने के सीमित संसाधन हैं फिर भी यहां पूरी दुनिया से बेहतर तरीके से इस बीमारी से लड़ा जा रहा है। किसी भी देश के विकास में और उसे आत्मनिर्भर बनाने के लिए पीएम मोदी ने 5 मुख्य चीजों की जरूरत होती है जो इस प्रकार है…

● अर्थव्यवस्था
● आधारिक संरचना
● प्रणाली
● जनसांख्यिकी
● मांग और आपूर्ति



क्या हैं आत्मनिर्भर अभियान के संकल्प?

कोरोनावायरस संकट का सामना करते हुए पीएम मोदी ने नए संकल्प के साथ देश के विकास की बात कही है। इसे नए दौर में ले जाने के लिए देश के अलग-अलग भागों को एक साथ जोड़ा जाना चाहिए। देश को विकास यात्रा की एक नई गति प्रदान की जाएगी। इस अभियान में देश के मजदूर, श्रमिक, किसान, लघु उद्योग, कुटीर उद्योग, मध्यम वर्गीय उद्योग सभी पर विशेष ध्यान दिया है। इस पैकेज के जरिए इन सभी लोगों को 20 लाख करोड़ रुपये की सहायता दी जाएगी। ये पीएम मोदी राहत पैकेज देश के उत्तरी श्रमिक व्यक्ति के लिए है जो हर स्थिति में देशवासियों के लिए हर तरह की परिक्षा से गुजरता है और देश को बुलंदी पर ले जाने में पीछे नहीं हटता है।

आत्मनिर्भर भारत अभियान के लाभार्थी

प्रधानमंत्री द्वारा कहे Atma Nirbhar Bharat अभियान में जिन तबके के लोगों को लाभ मिल सकता है उनके विवरण नीचे लिखे हैं..

● देश का गरीब नागरिक
● श्रमिक
● प्रवासी मजदूर
● पशुपालक
● मछुआरे
● किसान
● संगठित क्षेत्र व असंगठित क्षेत्र के व्यक्ति
● काश्तकार
● कुटीर उद्योग
● लघु उद्योग
● मध्यमवर्गीय उद्योग

इस राहत पैकेज से होने वाला लाभ

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये वाले राहत पैकेज से जिन लोगों को लाभ होगा वो तो आपको पता चल गया। मगर इससे क्या लाभ होगा उसका विवरण नीचे है..

● 10 करोड़ मजदूरों को लाभ होगा।
● MSME से जुड़े 11 करोड़ कर्मचारियों को फायदा।
● इंडस्ट्री से जुड़े 3.8 करोड़ लोगों को लाभ पहुंचेगा।
● टेक्सटाइल इंडस्ट्री से जुड़े 4.5 करोड़ कर्मचारियों को लाभ पहुंचेगा।
● ये आर्थिक पैकेज हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु-मंझोले उद्योग, हमारे MSME के लिए है, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है।
● इससे गरीब मजदूरों, कर्मचारियों के साथ ही होटल तथा टेक्सटाइल जैसी इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को फायदा होगा।



राहत पैकेज के तहत आने वाले क्षेत्र

पीएम मोदी के संबोधन को अगर आपने अच्छे से सुना होगा तो आपको ज्ञात हो गया होगा कि उन्होंने इस राहत पैकेज में कौन-कौन से क्षेत्रों का जिक्र किया था। उसमें कई तरह की बातें कहीं लेकिन हम यहां आपको उन मुख्यों तथ्यों के बारे में बता रहे हैं जो उनकी बातों में काफी अहम थीं..

● कृषि प्रणाली।
● सरल और स्पष्ट नियम कानून।
● उत्तम आधारिक संरचना।
● समर्थ और संकल्पित मानवाधिकार।
● बेहतर वित्तीय सेवा।
● नए व्यवसाय को प्रेरित करना।
● निवेश को प्रेरित करना।
● मेक इन इंडिया।

क्या है इस अभियान का निष्कर्ष

Atma Nirbhar Bharat या आत्मनिर्भर बनना हर इंसान के लिए जरूरी होता है। पहले ऐसी बातें हमें अपने घरों से सुनने को मिलती थीं लेकिन अब देश का मुखिया यानी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे कहा है तो इस बात को गंभीरता से लेने की जरूरत है। हम सभी को मिलकर देश के विकास में योगदान देना है और लोकल खरीददारी में ही ज्यादा जोर देना है। पीएम मोदी ने लोकल को वोकल बनाओ इसके बारे में कहा है, इसका मतलब भारत में बनी चीजों का हर किसी को ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल में लाना है। इस तरह के भारत हर तरह की आपदा से लड़ने में सक्षम बन सकेगा और हर भारतवासी की संकल्प शक्ति ही देश को कोरोना से मुक्ति दिला पाएगी। तो चलिए हम सभी एक भारतवासी होने के नाते एक संकल्प लेते हैं कि अब हम सभी देश में लोकल को वोकल बनाकर देशहित में ही हर कामों को करेंगे, यही हमें भविष्य में आने वाली सभी आपदाओं से बचाएगी और हम सभी अपना जीवन अच्छे से जी पाएंगे।



हम सभी को कोरोना काल से बाहर आने में समय लगेगा लेकिन हमें इससे डरना नहीं बल्कि लड़ना है। हम सभी साथ होंगे तो लड़ाई आसान हो जाएगी। घर में रहकर हम पहले से ही देशहित में इस काम को कर रहे हैं और आगे भी इस प्रक्रिया को चलाते रहेंगे, माना मुश्किल डगर है लेकिन धीरे-धीरे सब सही हो जाएगा और एक बार फिर ये देश खुशियों से झूम उठेगा। बस हम सभी को साथ रहकर हौसला रखना है और भारत सरकार का किसी भी हाल में साथ देना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *